शुक्रवार, 26 सितंबर 2008

इस्लामी आतंकवाद....अधिक खतरनाक कौन?

आज जहाँ एक तरफ़ इस्लामी आतंकवाद ने देश को झकझोर कर रखा हुआ है वहीँ दूसरी तरफ़ एक अन्य तरह का आतंकवाद भी अपने लिए एक खास तरह की जमीन तैयार करने में लगा हुआ है।यह अलग बात है कि अभी तक इस नए तरह के आतंकवाद को आधिकारिक तौर पर आतंकवाद का टैग नहीं मिला है।
जिस तरह इस्लामी आतंकवाद ने देश में असुरक्षा और दहशत का माहौल पैदा कर रखा है,उसी तरह इस नए वाले ने भी देश में रहने वाले एक खास संप्रदाय/धर्म के लोगों को खौफजदा कर रखा है,पहला वाला भी एक धर्म की आड़ में चलाया जा रहा है,तो दूसरे के मूल में भी कहीं न कहीं धर्म ही है।थोड़ा फर्क है दोनों में तो यह कि पहला वाला अल्पसंख्यक समुदाय द्वारा किया जा रहा है तो दूसरा बहुसंख्यकों द्वारा,पहले वाले में आतंक फैलाने वाला संप्रदाय ख़ुद ही सकते में है तो दूसरे वाले में आतंक के शिकार संप्रदाय के लोग।
अब अगर नियम कानून,समाजशास्त्र आदि की बात करें तो आतंकवाद के सन्दर्भ में यह बात बहुत अजीब नहीं लगती कि एक अल्पसंख्यक समुदाय के लोग इसमें शामिल हों क्योंकि हो सकता है बहुसंख्यक नीत नीतियों ने किसी रूप में उनके साथ ज्यादती की हो या उनकी भावनाएं आहत हुई हों,ऐसा सम्भव है(जरुरी नहीं कि ऐसा ही होना चाहिए),शायद यही आतंकवाद को जन्म देने वाले कारक हैं,पर जब बहुसंख्यक समुदाय के लोग ऐसा करने लग जायें तो समझ नहीं आता कि क्या कारण हो सकता है,या कैसे इनसे बचा जाए?
अगर बात समझ नहीं आई तो पिछले कुछ समय से इसाई संप्रदाय के लोगो और उनके आस्था के केन्द्र चर्चों पर होने वाले लगता हमलों को जेहन में लाईये।अरे,दूर कहाँ जा रहे हैं,यहीं उडीसा,कर्नाटका वगैरह कहीं भी चले जाईये.
आखिरी सवाल- अब आखिरी सवाल यह है कि अधिक खतरनाक कौन,जिसे नाम दे दिया गया है वो या जो अभी भी बेनाम है?और क्या दूसरे वाले को भी एक नाम की दरकार है?
आलोक सिंह "साहिल"

22 टिप्‍पणियां:

jafar ने कहा…

एकदम सही सवाल खड़ा किया है आलोक भाई,यह आतंकाव्द की गर्मागर्म चर्चाओं को निश्चित रूप से एक नया मोड़ देने सफल होगा.दिल को तसल्ली मिली को लोगो के सोचने का नजरिया ऐसा भी हो सकता है.बहुत बहुत धन्यवाद.

karan ने कहा…

आँखे खोलने वाला और एकदम से चौंका देने वाला लेख.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

एक सच बताता है यह लेख ....सोचने की बात लिखी है आपने इस में

संजय बेंगाणी ने कहा…

क्षमा करें आपसे सहमत नहीं हुआ जा सकता. जमीनी वास्तविकता एकदम अलग है. बहुसंख्यको पर हुए अत्याचार ही प्रतिक्रिया है चर्चो पर हमले. इस्लामी आतंकवाद अंधी मजहबी तालिम का परिणाम है.

आलोक सिंह "साहिल" ने कहा…

संजय जी आपकी सोच सही हो सकती है,परन्तु,क्या हम भी यही मान लें कि हम हर घटना(दुर्घटना) की प्रतिक्रिया करेंगे,यदि ऐसा ही होता रहा तो आने वाले कल की सोच सकते हैं आप?
शायद,हम नहीं कल्पना कर सकते.क्योंकि फ़िर वो कल्पना करने लायक भी नही होगा.
आलोक सिंह "साहिल"

शोभा ने कहा…

काफी विचार पूरण लेख लिखा है. बधाई.

Husain ने कहा…

What is Islamic Terrorism? Do you know this mean? Islam never teachs to be a terrorist. why we add the word Islamic do you understand it deeply? Do you know why this word has been added to terrorism. Then what will you say on Godhra, Babri Case, Kashmir, and Palestine, on stereotyping with Muslims in USA,UK, FRANCE and on attack on Iraq, Really I am confused. Please tell me why this word is more used as a Issue in only our country. Any political reason behind this. This is my first question to you after it we will discuss about Terrorism which is being forwarded to the Indian Community Especially in which peoples say Minority Community attacking on majority of people by using a special word that is ISLAMIC TERRORISM.I think there is no any reason to say Islamic terrorist because a terrorist has no any Relegion,no community,no nation,no humanity if all these things have a person then he never become a terrorist.I think its a question to ask our leaders that what is Islamic Terrorism..definitly they will answer clearly that what it is.
You have picked out a very good topic…but think sometime as you used this word that is Islamic Terrorism…it means religion Islam has a policy in which people is being taught to be a terrorist..if you say the terrorism which is being produced by some people which belong to religion Islam then it is right. always remember no any religion teach us to be a terrorist..please read a stanza which is written by Dr allama Iqbal who wrote Saare jahan se achcha Hindustaan hamara.. (ki Mazhab nahi sikhata aapas mein bair rakhna ,Hindi hain hum, watan hai Hindustaan hamaara). you have said what will be the name of this new type of terrorism which is being produced by Majority of People in India..Dont be serious our leader will give a name it as soon as possible because our leaders are very intelligent they know that how we can use this as a political issue and how we can get more votes by using it as a political issue.

meraj ने कहा…

बिल्कुल सही कह रहे हैं आप हुसैन भाई,
इस्लाम तो हमेशा से यही सिखाता रहा है की हम प्रेम भाई चारे के साथ रहे,
पर आज के समय में जो हालत पैदा हो गए हैं,की हमारी कौम के ही भाई लोग हैं जिन्होंने ऐसे हालत पैदा कर दिए हैं की दुसरे लोग हमपर उंगली उठाएं.
मैं मानता हूँ की ऐसा करने वाले अँगुलियों पर गिने जा सकने वाले लोग ही हैं,पर एक सच्चाई यह भी की किसी के पस दुनिया में इतना वक्त नहीं की एक एक की तस्लीम की जा सके कौन गुनाहगार और कौन पाक-साफ़.
आपके विचारों को पढ़कर,दिल को काफी सुकून मिला,मेरा भी दिल आहात है,पर क्या आप इस जुमले से असहमत हैं,
हर मुस्लिम आतंकवादी नही पर हर आतंकवादी मुस्लिम है.
हम जानते हैं की इसकी वजह कुछ और है,और शायद एकबार आतंकवादी से निगाह हटाकर आतंकवाद की जड़ों की तरफ़ देखने की कोशिश की जाए तो मामला हमेशा के लिए रफा दफा हो जाए,पर हुसैन भाई,आजकल कौन मामलों की जड़ों में झांकना चाहता है,और अगर जड़ ही ख़त्म हो जायेगी तो फ़िर राजनीति किस बात की करेंगे?
अब तो सिर्फ़ अल्ला ताला से ही दुआ की जा सकती है की सबकुछ ठीक हो जाए,
अभी कल के धमाके जो मेहरौली में हुए,उनसे निपटने की कोशिश करनी है,

rashmi ने कहा…

husain ji,
aapke sawal ka jawab hai aatankwaad ka wah rup jisme islam ka judaw ho,islamik aatankwaad
sadth hi we mamle jahan hinduwaadi vicharon ka judaw hai nishchit taur par,HINDUWAADI AATANKWAAD

anuradha ने कहा…

sanjay ji ki aapatti samajh se pare hai,khair,har insan ko abhivyakti ki swatantrta hai.

Husain ने कहा…

Yahan Rashmi ji ke vichaaron pe sahmati nahi di jaa sakti....kyonki Rashmi ji kahna Chahti hain ki......Islamic terrorism is religious terrorism by those whose motivations are rooted in their interpretations of Islam.and also Miss Rashmi want to say that Christian terrorism is religious terrorism by those whose motivations are rooted in their interpretations of Christianity. From the viewpoint of the terrorist, Christian scripture and theology provide justification for violent political activities.and Same for Hinduism that Hinduvaadi terrorism is religious terrorism by those whose motivations are rooted in their interpretations of Hindu Religion.....Perhaps Miss Rashmi has forgotten that No any Religion has a policy inwhich the people are trend to be a terrorist...Perhaps Miss Rashmi want to says that any Religion can be spread over the world by the help of Terrorism...Main Rashmi ji ko yahan bata dena chahta hoon ki Hindu dharm agar vishva mein fail raha hai to sirf apni sanskriti ki kaaran...agar Islam faila hai poori duniya mein to sirf apni saadgi ke kaaran...agar Baudh dharm faila hai to sirf ek rule ke kaaran jo ki Ahinsa(non violence) hai..Kya Hamne kahin Suna hai ki Koi dharm fail raha ho Aatankwad ke bal per?..........Rashmi ji yaad rakhiye ki kisi bhi dharm mein aisa koi kaanoon nahi jisme aatankvaad ke liye koi jagah ho...Haan agar aap ye kahti ki this is a Communist terrorism (or Communist terror) is terrorism committed by Communist organizations or Communist states against civilians to achieve political or ideological objectives by creating fear then it is right.Because we can change our rule inwhich style we live but we can never change the rules of our religion.Aap ke Comments ko padhkar aisa laga jaise...ab hamein swantantrata mil gayi hai ki ab hum apne dhaarmik kaanono ko badal sakte hain aur unhe apne dharm se jod kar aik naam de sakte hain....Jaise aapne aik naam diya Hinduvaadi terrorism per zara gaur kariyega ki kahan aapne galti ki hai.

rashmi ने कहा…

hussain ji,i think,u r not trying to understand the things properly.
coz,if its not so,why all the times only MUSLIMS,why,in one/bottom line.
i m witing

Husain ने कहा…

Rashmi Ji has posed a question, - Why only Muslims are related with terrorist incident, they are called terrorists. Don’t be confused Rashmi ji that you are saying, I am not getting understand your words properly. I think, I am getting understand but you are not getting understand my thoughts properly. Rashmi ji the upcoming Para which is surrounded by a closed bracket that is only for a example of perception for definition of terrorism that is not a part of my answer, to your question, first of all please read it. (Regarding terrorist…A person, like the freedom fighters of India -you know what we call them…freedom fighters…'Desh Bhakt'. The British government called them…terrorists -Same man…same work he is doing. We Indians feel that the Britishers had no right to rule India; therefore these people are called as, freedom fighters. The British government thinks that they had the right over India -they think that they are terrorists. Same man same activity two different labels. So, depending on upon which view you agree -if you agree with the British view, you will call them terrorists. If you agree with the Indian view, you will call them 'Desh Bhakt'. So, a person can be given different labels, by different criteria of judgments.) Now come to your question. If you judge a person correctly, no true Muslim can ever be a terrorist. True, there are black sheep in every community. That does not mean -Hitler…he incinerated six million Jews, so can you say…it was Christian terrorism? He was a Christian! Just because Hitler killed six million Jews, Mussolini killed thousands of people; you cannot say…Act of Mussolini was Christian Terrorism. Few Century before Christian Crusaders came to Spain and wiped out the Muslims. There was not a single Muslim in Spain who could openly give the adhan that is the call for prayers. Look towards Palestine Jews are causing terror in Palestine with the Muslims. We cannot say that it is Jews Terrorism. So your Knowledge is not correct that only Muslims are involved with terrorism. Similarly, there are black sheep in every community, but the label depends, upon which view you agree with. If you will say that it is Islamic Terrorism which is produced by some peoples who belong to Muslim community, or it is Hinduvaadi Terrorism which is produced by some Hindu People it will be not be true. There is not a single fundamental of Islam, Hinduism, Christianity, Sikhism, Buddhism or any religion that causes harm or is against the interests of the human race as a whole. So how we can relate the act of causing terror of a group of people to their religion? If we can relate the terrorism with their religion then there is no problem to relate the terrorism of those with their country. Definitely we can give a name which is related with their country because they live in India and all the terrorist activity are being done in India …so according to you it seems there is no problem to say it Indian Terrorism. According to me if any one says it is Indian Terrorism its mean Indian constitution has a policy in which the peoples have the right of Terrorism. Rashmi Ji, You are an Indian, I am also an Indian…you love our country...I also love our Country if not more than you, not less than you also. How we both can bear this abuse (Indian Terrorism)…perhaps we never can bear it. Miss Natasha has said what is in name? Perhaps Miss Natasha does not know that her name is her brand. I think peoples are calling it as Islamic Terrorism which is being produced by some Muslims people due to only lack of knowledge about Islam…that what Islam is? Our politicians are using it due to political benefits. Go through latest news papers and read that some politicians are saying the government of Congress has given security to Terrorist. Let’s go some years back...27 February 2002, and 6 Dec 1992...please answer me what type of terrorism that was? Hope that answers your question. Now come to the main topic that what type of Terrorism which is being produced in India by the some unknown (Muslims according to police justification) people. Several place of India’s are affected with bomb blasting by the activity of those people. Why? lets know the answer…every day a question is posed to me that what it is ….These bomb blasting not indicate towards terrorist, not towards any especial community …Do you think the Muslims, Christians, Sikhs and Hindus of this country are enemy of each other? Perhaps due to this.. Bombs blasting are taking place in Mosques, Temples, Churches, Wagons of Trains, in the Markets. But this is not true. Peoples of India neither were enemy before 1947 nor 6 Dec 1992,nor after 6 Dec 1992..Looks towards some terrorist incident (riots of Hindu Muslim) of India…Such as Gujrat, , Meerut, Maliyana, Bhiwandi, Aligarh, Moradabad, In those riots no a single riot was Hindu Muslim riot. And a lot of incident has taken place in India but not a single incident was religious .Although in all these case Men of some especial community were involved with those riots but this does not mean that they were real culprit. Those all were politics and recent incidents are also involved with politics of some political parties of India. Now that we have undertaken to resist the shameful efforts to brand world Muslims as terrorists so they can be oppressed and harassed every way, it is pertinent to take into account all historical factors and political motives behind this global conspiracy which we shall do in due course of time. However, since the situation in India is also an offshoot of that political conspiracy and affects us more directly, our priority has to be an analysis of the affairs at home. Take few examples; i.e. Bajrang Dal leader is arrested on 25 August in Kanpur with explosive. Mohan Singh an M.P of Deoria Distt. Said on 23 Aug that Narendra Modi will accept one day that he was real culprit behind the Gujrat riot. Congress says BJP was real culprit behind the 6 Dec 1992. Maulaana Bukhaari Imaam of Jama Masjid of Delhi said the recent Congress Government is the Government of Terrorism. Few years ago in Mau a Distt. Of U.P. Hindu Muslims riot has taken place. Do you think the Hindus and Muslims of Mau District were enemy of each other? Please think sometime you will find that what reality is. This is the truth Miss Rashmi accept it.

आलोक सिंह "साहिल" ने कहा…

हम्म.म...
मुझे आज यहाँ लिखते हुए बहुत खुशी हो रही है,कारण,कि हमने वाद विवाद की हिन्दुस्तानी तहजीब को भुलाया नही है.
मुझे खुशी है इसबात की कि मेरे चाँद पंक्तियों के बदले मुझे सैकड़ों पंक्तियाँ पढने को मिली.सभी साथियों को दिल से धन्यवाद,खासकर हुसैन भाई जी को,शायद अगर वो नहीं आते तो आज हम इस अंजाम पर नही पहुंचे होते.
अब आते हैं मुद्दे पर,तो,
हुसैन जी,
आपकी आपत्ति इसबात पर है की लोग इस्लामी आतंकवाद का नाम क्यों लेते हैं,इस सन्दर्भ में रश्मि जी का सवाल भी मौजूं है कि,फ़िर हर बार मुस्लिम ही क्यों,
आपने ब्रिटिश दौर के रणबांकुरों और आज के आतंकियों की तुलना की,मंतव्य मैं आपका समझ रहा हूँ पर आप किंचित ग़लत उदहारण दे बैठे.इस उदहारण से शायद कहीं न कहीं आप यह कहना चाह रहे हैं कि आतंकी जो कुछ कर रहे हैं वो उनके लिए आजादी कि लड़ाई है,और चूँकि हमने अपने आजादी के परवानों को शहीद और देशभक्त का नाम दिया था तो उन्हें भी देशभक्त का दर्जा मिलना चाहिए.
पर,मुझे विश्वास है कि आप ऐसा बिल्कुल भी नहीं सोंचते,यह सिर्फ़ तत्क्षण की दिमागी फिसलन रही होगी.
खैर,आप जानना चाहते हैं कि देश में अधिकांश लोग आतंकी घटनाओं को इस्लाम से क्योंकर जोड़ते हैं,यदि सिमी ग़लत है तो बजरंग दल भी ग़लत है.
मैं बिल्कुल आपकी सोंच से इत्तफाक रखता हूँ,कि गर सिमी पर प्रतिबन्ध लगता है तो बजरंग दल पर क्यों नहीं?
पर,दुःख का विषय यह है कि इसके पहले आपने उन घटनाक्रमों का मुआयना नहीं किया जिसके बिनाह पर यह फर्क हुआ,बजरंग दल ने क्या किया,उसने एक ऐसी गतिविधि में हिस्सा लिया जिसे आम तौर पर कानुनी तौर पर अपराध का नाम दिया जा सकता है,उन्होंने कोई ऐसा कार्य नही किया जिसे हम स्टेट के विरुद्ध,या यूँ कहें देशद्रोह करार दें,पर क्या आप सिमी के नाम पर होने वाले घटनाक्रमों को भी इसी श्रेणी में रखेंगे?
आपको,पता है यह देश धर्मनिरपेक्ष है,यहाँ हिंदू,मुस्लिम,सिक्ख,क्रिश्चयन,बौद्ध,वैष्णव,पारसी,सिधी आदि सभी को रहने की इजाजत है.पर शायद यह भूल गए कि इस देश का बंटवारा किस आधार पर हुआ था?
फ़िर भी आज की तारीख में,सरकारी तौर पर सबसे अधिक सहूलियतें अल्प्संखयक गिने जाने वाले लोगों को ही मुहैया है.फ़िर भी देश के विपरीत उनका यह कार्य,आप नाम ख़ुद ही सोंच लें.
आपको पता है,कोई भी कौम बुरी नहीं होती वैसे भी इस्लाम को शान्ति प्रिय धर्म कहा गया है,समय समय पर इसकी मिशालें भी देखने को मिली,बीर अब्दुल हमीद से लगाये अब्दुल कलाम तक यहाँ पैदा हुए और देश का नाम रौशन किए.फ़िर भी आज कि तारीख में हिन्दुस्तान ही नही पूरे विश्व स्तर पर मुसलमान भाइयों को शक कि निगाह से देखा जाता है,उनके पास पोर्ट वीजा बनने में परेशानी होती,उनको मकान मिलने में परेशानी होती है,तमाम स्कूलों में उनके दाखिले में परेशानी होती है.क्यों,आख़िर क्यों?
और,एक बात तो मैं आपको बता दूँ,इस सवाल का जवाब ना तो सरकार देगी,ना कोई संस्था.इसका जवाब ख़ुद मुसलमान साथियों को ही ढूँढना होगा,कि आख़िर किस वजह से न चाहते हुए भी हमारी कौम के लोग देश और शान्ति विरोधी कार्यों में लिप्त हो रहे हैं?क्योंकर इतनी सहूलियतें मिलने के बावजूद हमारे कुछ साथी मतिभ्रम के शिकार हो रहे हैं?आख़िर,कौन हैं वे लोग जो हमारे सथोयों को बरगला रहे हैं.ये कार्य आपको ख़ुद करना होगा.
आपको याद होगा,एक वक्त ऐसा था,जब देश सिख आतंकवाद se ग्रस्त था,तब कोई सपने में भी इस्लामी आतंकवाद के बारे में नही सोंचता था,फ़िर सिख समाज के पढ़े लिखे लोग ख़ुद ही कमर कसकर सामने आए,ख़ुद उन्होंने अपने ही कौम के ग़लत लोगों के खिलाफ मुहीम चलायी और आज कि तारीख में सिख आतंकवाद इतिहास के किसी पन्ने में खो गया है.
तो,अच्छा यह है कि हम जितनी जल्दी हो हम इस बात को समझ जायें और आने वाली नस्लों के वास्ते ही सही कमर कास लें वरना,यह वाद विवाद कभी ख़त्म नहीं होगी,हाँ,अलबत्ता कुछ पीढियां और खाक हो जाएँगी.
तब फ़िर कुछ ना बचेगा सिवाय यह कहने के कि
आज अगर खामोश रहे तो कल सन्नाटा छायेगा,
हर बस्ती में आग लगेगी हर बस्ती जल जाएगा,
सन्नाटों के पीछे से तब एक सदा ये आयेगी,
कोई नहीं है कोई नहीं है कोई नहीं है कोई नहीं.
धन्यवाद.

आपका
आलोक सिंह "साहिल"

keshu ने कहा…

आलोक जी,बिल्कुल सही फ़रमाया है आपने,आना तो मुस्लिम भाइयों को ही आगे पड़ेगा और तभी जाकर यह मिथक टूट पायेगा कि सभी आतंकवादी मुस्लिम होते हैं,वरना पीढियां डर पीढियां यह बोझ लिए हलाक होती चली जाएँगी.
हुसैन जी का नजरिया भी कुछ हद तक ठीक है पर दिक्कत यह है कि वे सच को स्वीकार करने से कतरा रहे हैं और कमोबेश यही हाल अन्य लोगो का भी है.जितनी जल्दी हम अपने भविष्य के प्रति सचेत हो जायें उतना ही बेहतर है.
ईद/गाँधी जयंती/लाल बहादुर शास्त्री जयंती कि शुभकामनाएं.
केशू

gajendr ने कहा…

sanjay ji,husain ji,rashnmi ji,anuradha ji,keshu bhai aap sabhi ne bahut saari achhi bate kari hain,mere liye itna sara matter mil gaya thanx.
aur han,alok ji,bahut bahut shukriya.aise mudde par kam hi log aawaj utha pate hain,asie mein aapne itna majedar aur gambhir vaad vivaad prastut kiya.bahut achha laga.sach kahun to main intjaar kar raha tha ki kab sablog apni apni bat khatm karein aur sabko padhkar main apni rai de sakun.thanx agin.
aap yun hi likhte rahein.meri shubhkamna aapke sath hai.sath hi husain bhai ji,aapka bhi yogdaan kamtar nahin hai,bahut mehanat ki hai aapne,khuda aapko bhi barkat de.

Husain ने कहा…

अलोक जी आप ने तो ग़लत ही समझ लिया ....जो उदाहरण मैंने वह रखा था उससे भारत में हो रही इन घटनाओ से कोई सम्बन्ध नही है ..मुझे अच्छी तरह पता है की ये आतंकी घटनाएं अंजाम देने वाले क्या हैं .और घटनाएं क्यों हो रही हैं मुझे ये भी पता है की इसमे मुस्लिम भी शामिल हैं कहीं हिंदू भी पर हमें ये भी तो पता है की इन दोनों के पीछे है कौन ..निश्चित तौर पे हमारी राजनैतिक पार्टियाँ ...और मैंने तो वहां लिखा भी है के ये पंक्तिया मेरे उत्तर से सम्बंधित नही हैं ..रश्मि जी का जो सवाल था की हर जगह मुस्लिम ही क्यों तो मेरा मंतव्य सिर्फ़ इतना था की मैं उनको बता सकू की ..फिलिस्तीन में यहूदी जो भी कर रहे हैं और मुस्लिम जो भी कर रहे हैं ...वो एक दूसरे की लड़ाई है वो एक दूसरे के लिए आतंकवादी है ....आपको पता है की फिलिस्तीन की वो मस्जिद हमारी है..आज यहूदियों का वहां कब्जा है ...शायद की मैं ये उदाहरण वहां नही रखता अगर रश्मि जी ये न कहती की पूरे विश्व में आतंकवादी घटनाओं में सिर्फ़ मुस्लिम ही क्यों?..क्योंकि उन्होंने ये नही पुछा था की भारत में जो हो रहा उनमे मुस्लिम ही क्यों ...वोह कहना चाहती थी की जहाँ कहीं भी जो कुछ भी हो रहा है वो आतंकवाद है .....वहां मैंने आतंकवाद की परिभाषा बतायी है ...आपसे निवेदन है की एक बार उन पंक्तियों को हटा कर मेरे कमेंट्स को फिर पढ़ें तो शायद मेरे उत्तर का मूल समझ सकें ...और आपने बजरंग दल की बात की है यकीन मानिए यहाँ बजरंग दल और सिमी की बात मैं नही कर रहा मैं तो ...भारत की सभी राजनैतिक पार्टियों को दोषी करार देता हूँ ....

तपन शर्मा ने कहा…

इस्लाम आतंकवाद वगैरह पर नहीं लिखूँगा...

एक लेख मैं लिखना चाहता था.. पर नहीं लिखा..
साहिल भाई.. लक्ष्मणानंद की हत्या..धर्मांतरण रोकने के कारण हुई.. उनकी उम्र ८३ वर्ष..उनके पैर काटे गये..उनको गोलियाँ मारी गई..
जबरन धर्मांतरण कराना आप पाप समझते हैं या नहीं? अगर हाँ तो आज कुछ लोगों का यही मिशन बन गया है...उनको क्यों नहीं रोका जा रहा? उन्हें न तो कुछ कहा गया है न ही कहा जायेगा..

आप के परिवार में कोई बीमार हो.. एक ही अस्पताल हो..उसके डक्टर कहें कि पहले आप उनका धर्म अपनायें तब इलाज होगा..क्या करेंगे?

कुछ ऐसे सवाल पहले आप खुद से करिये..
Every action has reaction!!!!
प्रतिक्रिया कब तक नहीं होगी? एक साल, २ साल..कब तक... लक्ष्मणानंद को ४० बरस हो गये थे अत्याचार के खिलाफ काम करते हुए... अब अगर उन पर हमला हो... तो?

हत्या करना जुर्म है.. गलत है.. मानता हूँ.. पर कब तक चुप रह सकते हैं? इस सवाल का जवाब फिलहाल मैं खुद ढूँढ रहा हूँ..आप मुझे बताइये...

Husain ने कहा…

अजिर ने ये बात बिल्कुल अंत में कही है पर मैं इसे बिल्कुल प्रारम्भ में ही कहना चाहूँगा की ...बेशक उन्हें हमें अपने देश के जवानों या शहीदों से बराबरी करने से पहले हमें खुदकुशी कर लेनी चाहिए ...आप के मन में ये आया भी कैसे की मेरी वो पंक्तिया इनको देश के जवानों और शहीदों का दर्जा दे रही हैं ? आपकी विचारों से सहमत हूँ पर मुझे अफ़सोस है की आप मेरा मंतव्य समझ नही पाये आपने मेरी उन पंक्तियों को भारत में हो रहे इन हालिया कुकृत्यों से सम्बंधित कर दिया आपने नही देखा की वहां पूरे विश्व की बात की गयी है ..बेशक विश्व में अधिकतर मामले ऐसे है जो निश्चित रूप से आतंकवाद है और जो अपने भारत.में हो रहा है वो तो निश्चित रूप से आतंकवाद है पर इतना कुछ सुनने के बाद मेरा वो प्रश्न अभी भी अधूरा है ...यहाँ आज मैं ये मान लेने पर विवस हूँ की इस्लामी आतंकवाद की अव्धार्दा एक पन्द्यंत्र का हिस्सा है .....अगर मैं कहूं की आप इसे मुस्लिम आतंकवाद कह सकते हैं तो इसमे कोई बुराई नही है मगर इस्लामी आतंकवाद का अर्थ ही दूसरा है .....क्योंकि इस्लाम एक धर्म का नाम है और मुस्लिम उस धर्म के मानने वालो का नाम है...उस धर्म के लोग बुरे हो सकते हैं ...मगर वो धर्म नही...मुझे आपत्ति सिर्फ़ इसी बात पर है की उसे धर्म से जोड़ा जा रहा है ....इस्लामी आतंकवाद और मुस्लिम आतंकवाद में बड़ा फर्क आप सब इसे महसूस कीजिये

Husain ने कहा…

चलिए मैं बताता हूँ की अधिक खतरनाक कौन बेशक न हम और न आप ...निश्चित तौर पर नाम देने वाले जो इसे नाम दे रहे हैं ..उदाहरण ;मीडिया जो इसे एक नाम दे रहा है...

आलोक सिंह "साहिल" ने कहा…

शायद अब आपने सच्चाई को पकड़ने की कोशिश की है,मीडिया का काम सिर्फ़ एक माध्यम बनने तक है,वास्तव में यह काम तो हमारे रहनुमाओं का है.पर हम सीधे सीधे कह नही सकते क्योंकि आज तक किसी भी जाँच में वे दोषी नहीं पाए गए,गर कहीं कुछ ऐसा हुआ भी तो मामला आगे की अदालतों में पहुच गया.यही समस्या है की हम उन्हें आधिकारिक तौर पर वह नाम नहीं दे सकते जो की हमें अन्दर ही अन्दर तंग किए जा रहा है.
आप सभी साथियों ने अच्छा साथ दिया,बहुत बहुत धन्यवाद.
आलोक सिंह "साहिल"

आलोक सिंह "साहिल" ने कहा…

शायद अब आपने सच्चाई को पकड़ने की कोशिश की है,मीडिया का काम सिर्फ़ एक माध्यम बनने तक है,वास्तव में यह काम तो हमारे रहनुमाओं का है.पर हम सीधे सीधे कह नही सकते क्योंकि आज तक किसी भी जाँच में वे दोषी नहीं पाए गए,गर कहीं कुछ ऐसा हुआ भी तो मामला आगे की अदालतों में पहुच गया.यही समस्या है की हम उन्हें आधिकारिक तौर पर वह नाम नहीं दे सकते जो की हमें अन्दर ही अन्दर तंग किए जा रहा है.
आप सभी साथियों ने अच्छा साथ दिया,बहुत बहुत धन्यवाद.
आलोक सिंह "साहिल"